Categories
Other

कब बनेगा आपका खुद का मकान ,क्या कहती है आपकी हस्तरेखा आपके खुद के मकान के बारे में जानिए..

ज्योतिष

हस्तरेखा विज्ञान बड़ा ही दिलचस्प है। इसमें हाथ की रेखाओं के आधार पर व्यक्ति के स्वभाव के अलावा और भी कई चीजों का वर्णन किया गया है। क्या आप जानते हैं कि आपकी हस्तरेखाओं का मकान बनने या नहीं बनने से क्या कनेक्शन है? यदि नहीं तो आज हम आपको इस बारे में विस्तार से बताने जा रहे हैं। हस्तरेखा विज्ञान की मानें तो मकान होने और नहीं होने का हथेली पर स्थित मंगल पर्वत से गहरा नाता है। कहतै हैं कि जिनकी हथेली का आउटर मंगल और इनर मंगल पर्वत उठा होता है। और उस स्थान पर कटी-फटी रेखाओं का जाल नहीं होता तो मकान बनने की संभावना होती है।

हस्तरेखा विज्ञान के अनुसार अंगूठे के पास से निकलने वाली रेखा मकान के लिए काफी शुभ मानी जाती है। ऐसा कहा जाता है कि अंगूठे के पास से ऊपर की ओर निकलने वाली रेखा से मकान प्राप्ति के योग बनते हैं। हाथ की इस रेखा और मकान का आपकी उम्र से भी कनेक्शन बताया गया है। कहा जाता है कि इस रेखा को धारण करने वाले लोगों को 34 साल से 48 साल की उम्र के बीच घर मिलता है। ऐसे में आप अपने परिवार को एक अच्छा सा घर दे पाते हैं जिसमें वे सभी लोग खुशी-खुशी रहते हैं।

बता दें कि कुछ लोगों की कलाई पर विशेष रेखाएं पाई जाती हैं। हस्तरेखा विज्ञान में ऐसा कहा गया है कि इन लोगों को मकान विरासत में मिलता है। ऐसा भी कहते हैं कि अचनाक से हुए धनलाभ के जरिए भी ये लोग मकान खरीद लेते हैं। मालूम हो कि कुछ लोगों की हथेली पर डेढ़ रेखा पाई जाती है। इनके बारे में कहा गया है कि इन्हें पत्नी की मदद से मकान मिलता है। इसके अलावा हथेली के निचले हिस्से पर एक-दूसरे से मिलने वाली रेखाएं भी मकान प्राप्ति का संकेत देती हैं। कहते हैं कि इन लोगों को अपने जन्मस्थान से दूर कहीं मकान मिलता है।