Categories
News

उत्तर कोरिया के स्कूलों के खत’रनाक नि’यम, जानकर उड़ जाएंगे आपके हो’श….

हिंदी खबर

प्योंगयां’ग। हर देश में अपने नागरिकों को शिक्षित करने का तरी’का अलग होता है। जहां भारत और अमेरिका जैसे देशों में बच्चों को छोटी कक्षा में लिखना पढ़ना सिखाया जाता है वहीं कुछ देश ऐसे भी हैं, जहां इस माम’ले में भी प्रोपे’गेंडा चलता है। हम बात कर रहे हैं उत्तर कोरिया की। जहां केवल ता’नाशाह किम जोंग उन की चलती है। इस देश में शिक्षा की बात करें तो वो भी बेहद अलग तरीके से दी जाती है। अब यहां नए आ’देशों के बाद शिक्षा और भी ज्यादा बद’ल गई है। ये आदेश किम जोंग उन की बहन ने जा’री किए हैं। जिसके तहत प्री स्कूल में ही बच्चों को आधे दिन आम पढ़ाई कराई जाएगी तो वहीं आधे दिन किम जोंग उन के बारे में बताया जाएगा।

‘ग्रेटनेस एजुकेशन’ पाठ्यक्रम ला’गू
‘ग्रेटनेस एजुकेशन’ नामक नए पाठ्यक्रम में किम जोंग उन और उनके दो पूर्वजों के महिमामंडन की व्यवस्था की गई है। प्री स्कूल के बच्चों को तीन घंटे की पढ़ाई के दौ’रान आधे समय या’नी डेढ़ घंटे के लिए इन लोगों के बारे में भी पढ़ाया जाएगा। इससे पहले ये समय केवल आधे घंटे का होता था। लेकिन किम जोंग की बहन किम यो जोंग ने बीते महीने जा’री किए नए नियमों में इस समय को तीन गुना तक बढ़ा दिया है। यानी अब स्कूल में आधे समय तक इस त’रह की पढ़ाई कराई जाएगी।

स्कूलों में अ’जीब तस्वीरें लगाई गईं
उत्तर कोरिया के स्कूलों की दीवारों की बात करें तो उनपर भी बाकी स्कूलों की तरह कार्टून आदि की तस्वीर नहीं मिलेगी। बल्कि इनपर मिसाइल और गोलीबारी की तस्वीरें बनाई जाती हैं। उत्तर हैमयोंग प्रांत (चीनी सी’मा के पास स्थित) के एक सूत्र ने बताया कि नए नियमों से बच्चों के माता-पिता और शिक्षक काफी चिं’तित हैं क्योंकि उन्हें अपने अगले स्तर की स्कूली शिक्षा नुक’सान के साथ शुरू करनी पड़ेगी। यही कारण है कि अभिभावक शिक्षकों से बोल रहे हैं कि बच्चों को एल्फाबेट सिखाने पर अधिक काम किया जाए। नेताओं के बारे में पढ़ाए जाने से बाकी पढ़ाई को नु’कसान हो रहा है, जिससे अभि’भावक काफी परेशा’न हैं।