Categories
dharmik

भूलकर भी देवों के देव महादेव को ना चढ़ायें ये चीज, वरना रुठ जायेंगे शिव……

धर्म

भगवान शिव देवों के देव महादेव कहलाते हैं। शिव जी अपने भक्तों की सभी इच्छायें जल्द पूरी करते हैं और जल्द प्रसन्न होने वाले देवता भी माने जाते हैं। कहा जाता है कि भगवान शिव एक लोटे पानी से भी अपने भक्तों से प्रसन्न हो जाते हैं और उन्हें वरदान प्रदान करते हैं। लेकिन क्या आपको पता है महादेव की पूजा में कुछ चीजें निषेध होती है। इन चीजों का शिव जी की पूजा में होने से शिव जी आपसे रूठ सकते हैं। तो आइए जानते हैं किन चीजों का नहीं करना चाहिये उपयोग…

नारियल
भगवान शिव का कभी भी नारियल के पानी से अभिषेक नहीं करना चाहिये, क्योंकि नारियल ( श्री फल ) देवी लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है और लक्ष्मी जी का संबंध भगवान विष्णु से होता है। इसलिये शिव जी को कभी नारियल के पानी से अभिषेक नहीं करना चाहिये।

कुमकुम
भगवान शिव की पूजा में कभी भी कुमकुम नहीं चढ़ाना चाहिये। क्योंकि भगवान शिव वैरागी हैं और कुमकुम सौभाग्य का प्रतीक है। इसलिये कभी भी शिव जी को कुमकुम ना चाढ़ायें।

हल्दी
कभी भी शिवलिंग पर हल्दी का उपयोग नहीं करना चाहिये। क्योंकि हल्दी का संबंध भगवान विष्णु से माना जाता है और सौभाग्य का प्रतीक भी होता है। इसलिये शिव जी को हल्दी नहीं चढ़ाना चाहिये।

शंख
शिव जी की पूजा में कभी शंख का उपयोग नहीं करना चाहिये। क्योंकि भगवान शिव ने शंखचूड़ नामक असुर का वध किया था। जो कि भगवान विष्णु का भक्त था। शंख को शंखचूड़ नामक अशुर का प्रतीक माना जाता है। इसलिए शिव जी की पूजा में शंख का इस्तेमाल वर्जित माना जाता है।

तुलसी के पत्ते
तुलसी को भगवान शिव पर भूलकर भी नहीं चढ़ाना चाहिये। क्योंकि तुलसी का संबंध भगवान विष्णु से संबंधित होता है और भोलेनाथ को तुलसी का प्रयोग करने से भोलेनाथ रुठ सकते हैं।