Categories
Other

लद्दाख में भारतीय सैनिकों को मिला गोली चलाने का अधिकार, चीनी अखबार ने दी ये धमकी

15 जून की रात गलवान घाटी में भारतीय और चीनी जवानों के बीच हुई हिंसक झ’ड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए जबकि कई घा’यल हो गए.नु’कसान चीन को भी हुआ. लेकिन चीन ने कभी अपने मृ’त या घा’यल सैनिकों की संख्या नहीं बताई. अमेरिकी ख़ुफ़िया एजेंसियों के मुताबिक़ इस झ’ड़प में चीन के 50 से अधिक सैनिक मा’रे गए या घा’यल हुए.

सरकार के नए नियमों के अनुसार, एलएसी पर तैनात कमांडर सैनिकों को सामरिक स्तर पर स्थितियों को संभालने और दुश्मनों के दुस्साहस का ‘मुंहतोड़’ जवाब देने की पूरी छूट होगी। बता दें कि देश के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा था कि दोनों पक्षों की सेनाएं 1996 और 2005 में एक द्विपक्षीय समझौतों के प्रावधानों के अनुसार टकराव के दौरान हथियारों का इस्तेमाल नहीं करती हैं। उन्होंने जवाब में कहा था, 15 जून को गलवान में हुई झड़प के दौरान भारतीय जवानों ने इसलिए हथियारों का इस्तेमाल नहीं किया था।

चीन का सरकारी प्रोपेगेंडा अखबार ग्‍लोबल टाइम्‍स भड़क उठा है। चीनी अखबार ने धमकी दी कि अगर भारतीय सैनिकों ने गोली चलाने की हिमाकत की तो हम इसका मुंहतोड़ जवाब देने में सक्षम हैं। चीनी अखबार ने अपने संपादकीय में वर्ष 1962 के युद्ध की याद दिलाते हुए कहा कि आज चीन की सेना और अर्थव्‍यवस्‍था दोनों ही भारत से ज्‍यादा मजबूत है।सीमा पर झड़प कभी-कभी होती है और दोनों ही देशों ने कई दशकों से गोली नहीं चलाई है। अगर भारतीय सैनिकों ने भविष्‍य में चीनी सैनिकों के खिलाफ हथियारों का इस्‍तेमाल किया तो सीमाई इलाकों में तस्‍वीर इससे उलट होगी।’