Categories
News Other

पाकिस्तानी लड़कियां हो रही चीन में सप्लाई, इसके पीछे की वजह जान हिल जायेगें आप !!

खबरें

पाकिस्तान अब पडोशी देश चीन का प्यादा बन चूका है। चीन में पाकिस्तान दधे तो बीच ही रहा था, अब अपने देश की लड़किया भी बेच रहा है। जानकारी के मुताबिक कई सौ पाकिस्तानी लड़कियां चीन के कुछ आदमियों को बेचीं गई हैं। यह मामला अब मानव तस्करी का बन चुका है।

न्यूज एजेंसी एपी ने खुलासा किया है कि पाकिस्तान की और से करीब 629 लड़कियों को चीनी मदों से फ़र्ज़ी शादी करवाकर बेच दिया गया है। न्यूज़ एजेंसी द्वारा ज़ारी यह लड़कियों की सूचि पाकिस्तान के ही जांचकरता समूह ने पूरे पाकिस्तान में मानव तस्करी के इस खेल को उजागरकरने के मकसद से तैयार किया।

पाकिस्तान गरीबी और बेरोज़गारी अपने चरम पर है

असल में पाकिस्तान गरीबी और भुखमरी अपने चरम पर है। पूछने दिनों पाकिस्तान में टमाटर के दाम भी 400 रु किलो पहुँच गए थे। पाकिस्तान में गरीबी से झूझ रही लड़कियों को चीनी लड़कों से शादी करने के लिए के लिए माइंड-वाश किया जा रहा है, ताकि उन्हें अच्छे जीवन का लालच देकर चीन में बेचा जा सके।

पाकिस्तान से लड़कियों की तस्करी काफी समय से हो रही है

वैसे तो पाकिस्तान से लड़कियों की मानव तस्करी बहुत पहले से की जा रही थी, किन्तु ऐसा खुलासा अभी हुआ है। आपको बता दें की जून 2019 में चीन और पाकिस्तान के बीच चल रहे इस मानव तस्करी के खेल की खबर सामने आने के बाद से छानबीन चालू हो गई थी। जांच से जुड़े अधिकारियों ने मीडिया सूत्रों को बताया कि पाकिस्तान और चीन के रिश्तों पर बुरा प्रभाव पड़ने की चिंता से पाक के अधिकारी भारी दबाव में हैं।

मानव तस्करी के चलते चीनी नागरिक हो चुके है गिरफ्तार

हाल ही में पाकिस्तान की एक कोर्ट ने मानव तस्करी के आरोप में फंसे हुए 30 से भी ज्यादा चीनी आदमियों को छोड़ दिया था। मीडिया में आई खबरों के मुताबिक़ पुलिस के सामने अपनी शिकायत दे चुकीं पाकिस्तानी लड़कियों ने दवाब की वजह से अपनी गवाही देने से मन कर दिया और शान हो गई।

आपको बता दें की पाकिस्तान की सरकार को चीन से पाने रिश्तों के बिगड़ने का इतना डर है की पाकिस्तानी मीडिया में इस मानव तस्करी की खबरों को छापने को लेकर पांबदियां लगा दी गई हैं। अब कोई भी इन लड़कियों की सहायता नहीं कर पा रहा है। ऐसे में इस मामले की जांच बंद होने से पाकिस्तानी लड़कियों की तस्करी और भी बढ़ गई है। जो फिलहाल रुकने का नाम नहीं ले रही है।