Categories
धार्मिक

जीवन में चाहते हैं सुख तो पत्नी में हों ये गुण, बताया चाणक्य ने..

धार्मिक ख़बर

घर गृहस्थी में सुख समृद्धि की कामना हर कोई करता है लेकिन जरूरी नहीं कि आपने जो सोचा है वैसा हो ही। लेकिन बात यहां आचार्य चाणक्य की नीतियों की करेंगे । आचार्य चाणक्य महान कूटनीतिक राजनीतिक और अर्थशास्त्री माने जाते हैं। आचार्य चाणक्य के अनुसार सुख समृद्धि की कामना रखने वाले व्यक्तियों को अपनी पत्नी में गुड़ तलाशने चाहिए जिससे कि यह समृद्धि आपके जीवन में जीवन पर्यंत बनी रहे। नीति शास्त्र में आचार्य चाणक्य ने बताया है कि स्त्री पुरुष बुजुर्ग बच्चे या कोई भी वर्ग हो सभी मनुष्य के गुणों के बारे में इस नीतियों में बताया गया है।
यदि आप आचार्य चाणक्य की नीतियों में चलेंगे तो रिश्तो का सही चुनाव कर सकेंगे। आचार्य चाणक्य ने अपनी नीतियों में स्त्रियों के 3 गुणों का जिक्र किया है।
अगर यही 3 गुण स्त्रियों में पाए जाते हैं तो व्यक्ति भाग्यशाली होता है और पुरुषों का जीवन सुख में हो जाता है।

विनम्र और दयालु
स्त्रियों में दयालु और विनम्रता के गुण जरूर होने चाहिए आचार्य चाणक्य की नीतियां कहती हैं कि जिन स्त्रियों के अंदर यह 2 गुण होते हैं वह सदैव अपने परिवार और रिश्तो को संजो कर रखने वाली होती हैं। ऐश्वर्या हमेशा दूसरों की भलाई ही करती हैं और सामने वाले से भी यही अपेक्षा करते हैं। जिन घरों में ऐसी स्त्रियां होती हैं उस घर में सुख समृद्धि का वास होता है। ऐसी स्त्रियों के होने से परिवार में कभी कलह क्लेश की स्थिति नहीं पैदा होती और जीवन प्रेम पूर्वक कट जाता है।

धर्म पालन करने वाली
धर्म की स्थापना और उसकी रक्षा के लिए स्त्रियों का अहम रोल होता है। चाणक्य की नीतियों के अनुसार स्त्री या पुरुष उसे धर्म का पालन जरूर करना चाहिए। जिस स्त्री के धर्म पालन की क्षमता होती है और वह धार्मिक होती है सही और गलत को आंक कर एक सही निर्णय लेती है स्त्री हमेशा सुखी रहती है। ऐसी स्त्रियों के संतान भी संस्कारी होते हैं और कर्तव्यनिष्ठ होते हैं क्योंकि इस तरह की स्त्रियां हमेशा अपने कर्तव्य का निर्वहन बखूबी करती हैं। और ऐसी स्त्रियों का सम्मान मान प्रतिष्ठा परिवार के साथ साथ समाज में भी बढ़ता है।

धन संचय करने वाली

विपरीत परिस्थितियों में संचय किया हुआ धन ही काम आता है। आचार्य चाणक्य की नीतियों के अनुसार जिस स्त्री में यह गुण होता है वह व्यक्ति विस्तृत कभी भी परेशान नहीं रहती और वह सदैव विषम परिस्थितियों का सामना करने के लिए तैयार रहती है। ऐसे में स्त्रियों में धन संचय करने की कला जरूर होनी चाहिए जिससे कि वह विषम परिस्थितियों में उसका मुकाबला कर सके।

तो ऐसे में यह तीन गुण किसी भी स्त्री में है तो वह भविष्य में कभी भी परेशान नहीं रहेगी और जिस घर में जाएगी वह घर स्वर्ग बन जाएगा।?