Categories
धार्मिक

नहीं मिल रहा पति का प्यार तो करें हल्दी का ये उपाय आपको पलकों पर बिठा कर रखेगा..

धार्मिक ख़बर

हल्दी का इस्तेमाल हम सभी मसाले के रूप में करते हैं। वैसे इसमें कई औषधीय गुण भी होते हैं। मसलन कोरोना काल में हर कोई हल्दी वाला दूध पी रहा है। ये आपको संक्रमण से बचाने में मदद करता है। इसके अलावा हल्दी का उपयोग पूजा पाठ और मांगलिक कार्यों में भी किया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि हल्दी आपके जीवन की कई परेशानियों को भी दूर कर सकती है।

दरअसल ज्योतिष शास्त्र में हल्दी को काफी अहमियत दी गई है। ये ग्रहों से जुड़ी समस्या से लेकर आर्थिक तंगी, गृह कलेश, नेगेटिव एनर्जी का प्रकोप, मन चाहा जीवन साथी तक कई समस्याओं से निजात दिलाती है। ऐसे में आज हम आपको हल्दी के कुछ उपाय बताने जा रहे हैं जो आपको दैनिक जीवन से जुड़ी समस्या दूर करने में मदद करेंगे।

  1. वास्तु दोष और नकारात्मक ऊर्जा के चलते घर में कई तरह की दिक्कतें आती है। यदि आप भी इस तरह की समस्या का सामना कर रहे हैं तो हल्दी आपकी मदद कर सकती है। आपको बस घर के सभी कोनों में हल्दी पाउडर का छिड़काव करना होगा। इससे घर में मौजूद सभी तरह के वास्तु दोष समाप्त हो जाएंगे। यह उपाय आपके घर सुख समृद्धि लाएगा।
  2. जो लोग धन की समस्या से जूझ रहे हैं वे प्रत्येक गुरुवार घर में हल्दी के पानी का छिड़काव करें। इससे घर की नेगेटिव एनर्जी खत्म होगी और पॉजिटिव ऊर्जा आएगी। इसका फायदा ये होगा कि गुरुवार के अगले दिन यानि शुक्रवार आपके घर सकारात्मक ऊर्जा का स्तर अधिक होगा। यह चीज मां लक्ष्मी को अपनी ओर आकर्षित करेगी और वह आपके घर प्रवेश कर आपकी धन संबंधित समस्या दूर कर देगी।
  3. यदि आप रात में आने वाले बुरे सपनों से परेशान है तो हल्दी की गांठ पर मौली बांधकर उसे तकिये के नीचे रख दें। बुरे सपने आना बंद हो जाएंगे।
  4. यदि आपको अपने पति का प्यार नहीं मिल रहा है तो हल्दी आपकी सहायता कर सकती है। गुरुवार के दिन पीले वस्त्र पहनकर हल्दी की गांठ रखकर ‘ऊं रत्यै कामदेवायः नमः’ मंत्र का एक माला जाप करें। इसके बाद शाम को बेसन से बने व्यंजन बनाएं। आपको पति का प्यार मिलने लगेगा।
  5. यदि आपको गुस्सा अधिक आता है तो रोज हल्दी का तिलक लगाकर घर से बाहर निकले। वहीं नहाते समय हल्दी पानी में मिला लेने से बंद किस्मत के ताले भी खुल जाते हैं। इससे आपको जॉब में भी फायदा मिलता है। समाज में मान सम्मान बढ़ता है।