Categories
धर्म

नहाने के पानी में मिला लें ये चीजें होजाएंगे सूर्य और शनि समेत नौ ग्रह शांत…

धर्म

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में किसी ग्रह की स्थिति कमजोर है तो इसकी वजह से जीवन में बहुत सी परेशानियां उत्पन्न होने लगती हैं। व्यक्ति चाहे कितनी भी कोशिश कर ले, उसको अपने किसी भी काम में कामयाबी नहीं मिलती है। कोई ना कोई बाधाएं उत्पन्न होती रहती हैं। इसके अलावा अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में ग्रहों की स्थिति मजबूत है तो जीवन में सुखद परिणाम मिलते हैं और हर क्षेत्र में अच्छी सफलता हासिल होती है।

ज्योतिष शास्त्र में कुल 12 राशियां बताई गई हैं और सभी राशियों का कोई ना कोई स्वामी ग्रह अवश्य होता है। किसी ग्रह के पास केवल एक ही राशि होती है तो किसी ग्रह के पास दो-दो राशियां होती हैं। अगर राशि स्वामी यानी ग्रहों की शुभ और अशुभ दशा है तो इससे राशि के व्यक्ति के जीवन पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ता है। इतना ही नहीं बल्कि कैरियर पर भी प्रभाव देखने को मिलता है।

ज्योतिष दृष्टि से देखा जाए तो अगर कोई व्यक्ति अपनी राशि के स्वामी ग्रह को शांत और प्रसन्न करना चाहता है या फिर कुंडली में अगर कोई ग्रह बुरा प्रभाव डाल रहा है और आप इसको दूर करना चाहते हैं तो इसके लिए आप नहाने के पानी में कुछ खास की चीजें डालकर स्नान कर सकते हैं। इससे आपको फायदा मिलेगा।

सूर्य ग्रह

सिंह राशि वाले लोगों का स्वामी ग्रह सूर्य है। ऐसी स्थिति में अगर इस राशि वाले लोगों की कुंडली में सूर्य का प्रभाव ठीक नहीं है तो उनको नहाने के पानी में रोजाना इलायची, केसर, लाल चंदन, मुलेठी या लाल रंग का कोई भी फूल मिलाकर नहाना चाहिए। इस उपाय को अपनाने से सूर्य ग्रह शांत होगा। इतना ही नहीं बल्कि सूर्य से मिलने वाला अशुभ प्रभाव भी खत्म हो जाएगा।

चंद्रमा

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, कर्क राशि वाले लोगों का स्वामी ग्रह चंद्रमा होता है। अगर इस राशि के लोगों की कुंडली में चंद्रमा का अशुभ प्रभाव है तो ऐसे में आप नहाने के पानी में सफेद चंदन या सफेद रंग का कोई भी फूल मिलाकर स्नान कीजिए। इस उपाय को अपनाने से चंद्रमा का बुरा असर दूर हो जाएगा।

मंगल ग्रह

मेष और वृश्चिक राशि वाले लोगों का स्वामी ग्रह मंगल है। अगर इन लोगों की कुंडली में मंगल का बुरा प्रभाव है तो आप नहाने के पानी में लाल चंदन, हींग और गुलाब का फूल मिलाकर नहाए। इससे आपको लाभ मिलेगा।

बुध ग्रह
कन्या और मिथुन राशि वाले लोगों का स्वामी ग्रह बुध ग्रह होता है। इसलिए अगर आपकी कुंडली में बुध ग्रह का अशुभ प्रभाव है तो ऐसे में आप नहाने के पानी में शहद, जायफल और चावल मिलाकर नहाए। इसे ग्रह शांत होगा और आपका स्वास्थ्य भी बेहतर रहेगा।

गुरु ग्रह

धनु और मीन राशि वाले लोगों का स्वामी ग्रह गुरु होता है। अगर आपकी कुंडली में गुरु ग्रह का प्रभाव ठीक नहीं है तो ऐसी स्थिति में आप नहाने के पानी में हल्दी, शहद और चमेली के फूल की पंखुड़ियां मिलाकर नहाए। इससे गुरु ग्रह शांत होगा।

शुक्र ग्रह

शुक्र ग्रह वृषभ और तुला राशि वाले लोगों का स्वामी होता है। अगर आपकी कुंडली में शुक्र ग्रह का अशुभ प्रभाव है तो ऐसे में आप नहाने के पानी में जायफल, इलायची, चंदन और दूध मिलाकर स्नान करें। इसे शुक्र ग्रह की कृपा प्राप्त होगी।

शनि ग्रह

मकर और कुंभ राशि वाले लोगों का स्वामी ग्रह शनि होता है। अगर आपकी कुंडली में शनि का अशुभ प्रभाव है तो ऐसे में आप नहाने के पानी में सौंफ, काला तिल या खसखस मिलाकर स्नान कीजिए। इससे आप शनि के अशुभ प्रभाव से बच सकते हैं।

राहु और केतु

अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में राहु और केतु का अशुभ प्रभाव है तो ऐसे में नहाने के पानी में दूर्वा, लाल चंदन और लोबान मिलाकर स्नान करें। इससे राहु और केतु शांत होते हैं और उनका अशुभ प्रभाव भी दूर होगा।