Categories
धार्मिक

शादीशुदा महिलाओं को ये पांच गहने कभी नहीं पहनने चाहिए, पति की हो जाती है मौत..

धर्म

> धर्म अध्यात्म > शादीशुदा महिलाओं को ऐसे…
शादीशुदा महिलाओं को ऐसे पहननी चाहिए बिछिया, आप भी जानें
हिन्दू धर्म में शादीशुदा महिलाएं पांव में बिछिया पहनती हैं। हिन्दू धर्म में दोनों पांव की तीन अंगुलियों में बिछिया पहनने का रिवाज है। औरतों के सारे श्रृंगार बिछिया और टीके के बीच होते हैं। यानि बिछिया औरतों का आखिरी आभूषण होता है। औरतों के सिर पर सोने का टीका और पांव में चांदी की बिछिया पहनने कारण है कि सूर्य और चंद्र की कृपा पति और पत्नी दोनों पर जीवन भर बनी रहे। लेकिन क्या आप जानते हैं कि बिछिया पति की गरीबी का कारण भी बन सकती है, तो आइए इस बारे में शास्त्रों के अनुसार आप भी जानें।
शादीशुदा महिलाओं को ऐसे पहननी चाहिए बिछिया, आप भी जानें

हिन्दू धर्म में शादीशुदा महिलाएं पांव में बिछिया पहनती हैं। हिन्दू धर्म में दोनों पांव की तीन अंगुलियों में बिछिया पहनने का रिवाज है। औरतों के सारे श्रृंगार बिछिया और टीके के बीच होते हैं। यानि बिछिया औरतों का आखिरी आभूषण होता है। औरतों के सिर पर सोने का टीका और पांव में चांदी की बिछिया पहनने कारण है कि सूर्य और चंद्र की कृपा पति और पत्नी दोनों पर जीवन भर बनी रहे। लेकिन क्या आप जानते हैं कि बिछिया पति की गरीबी का कारण भी बन सकती है, तो आइए इस बारे में शास्त्रों के अनुसार आप भी जानें।

हिन्दू धर्म में विवाहित भारतीय महिलाएं बिछिया पहनती हैं। बिछिया पहनना सिर्फ इस बात का प्रतीक नहीं है कि वह महिला शादीशुदा है बल्कि इससे महिलाओं का मासिक चक्र नियमित होता है।

शादीशुदा महिलाओं को बिछिया पैर की दूसरी अंगुली में पहनना चाहिए। यानि अंगुठे के पास वाली अंगुली में महिलाओं को बिछिया पहनना चाहिए।

कई महिलाएं जोड़े में बिछिया पहनती हैं। इस प्रकार भी बिछिया पहनना ठीक है। लेकिन कभी भी तीन बिछिया एक पैर में नहीं पहननी चाहिए। ऐसा करना शुभ नहीं माना जाता है।

किन महिलाओं को बिछिया नहीं पहननी चाहिए
प्रत्येक महिला शादी के बाद अपने पैर में बिछिया पहनती है। यहां ये बात भी ध्यान रखनी चाहिए कि बिछिया सिर्फ शादी के बाद शादीशुदा स्त्रियों को ही पहननी चाहिए। कुंवारी लड़कियों को कभी भी बिछिया नहीं पहननी चाहिए। इसके अलावा विवाहित महिलाओं के लिए तो बिछिया पहनना बहुत ही जरुरी होता है। शादीशुदा महिलाओं को बिछिया पहनने से गर्भधारण में कोई भी समस्या नहीं आती है। लेकिन यह बात बहुत कम लोग ही जानते होंगे कि अगर पत्नी अपने पैर में बिछिया सही ढंग से नहीं पहनती है तो बिछिया उसके पति की गरीबी का कारण बन जाते हैं।

भारतीय महिलाएं 16 श्रृंगार करती हैं। माथे की बिन्दी से लेकर पांव में पहने जाने वाले प्रत्येक श्रृंगार का अपना एक अलग ही महत्व होता है। लेकिन बिछिया पति की गरीबी का कारण इसलिए बनते हैं कि महिलाएं बिछिया को अपने मनमाने ढंग से पहनती हैं।

महिलाओं द्वारा इस बात को खास ध्यान रखना चाहिए कि बिछिया केवल चांदी की ही पहननी चाहिए। महिलाएं भूलकर भी कभी सोने की बिछिया ना पहनें।

पत्नी को बिछिया कभी भी इतनी ढीली भी नहीं पहननी चाहिए कि वो पैरों से निकल जाए।

महिलाओं को अपनी पहनी हुई बिछिया कभी भी किसी अन्य महिला को भूलकर भी नहीं देनी चाहिए। ऐसा करने से पति को गरीबी और बीमारी का सामना करना पड़ता है।

पैरों में पायल अथवा बिछिया घुंघरू वाली ही पहनना चाहिए। क्योंकि इनकी आवाज से माता महालक्ष्मी प्रसन्न होती हैं। और ऐसे घरों में माता लक्ष्मी वास करने लग जाती हैं।

यदि आपके पति को अपने प्रत्येक काम में असफलता हाथ लगती है, और पैसों की तंगी का सामना करना पड़ता है तो केवल बिछिया ही नहीं आपको कई और सावधानियां भी बरतनी चाहिए।