Categories
धर्म

वास्तु के अनुसार भूलकर भी ना दे ऐसे उप’हार, वरना हो जाएंगे आप कंगा’ल…

धार्मिक खबर

हमारे पुराने ज़मा’ने से उपहार देना एक प’रम्परा रही है। शा’स्त्रों में कहा भी गया है कि भग’वान, मित्र, गुरू और पुत्री के घर खाली हाथ नहीं जाना चाहिए। उनके यहां जब भी जाएं उपहार लेकर जाएं। लेकिन उपहार देने वाले की नीयत जा’नना भी आवश्यक है। वास्तु के अनुसार हम उपहार को देख कर देने वाले की नी’यत जान सकते हैं कि उपहार किस नि’यत से दिया है।

इन चीजों को घर में रखने से होता है नुकसा’न

# किसी को भेंट में हिंसक जान’वरों जैसे शेर, बाघ, चीते की तस्वीर व मू’र्त‌ि देना या लेना भी शुभ नहीं माना जाता है।

# गिफ्ट में डूब’ते जहाज की मू’र्ति मिलना और उसे घर पर रखने पर ये अ’शुभ फल प्र’दान करती है। इससे आर्थि’क नुक्सा’न भी होता है।

# किसी को भी चा’कू-छु’री जैसी चीजें उपहा’रस्वरुप नहीं देनी चाहिए। यदि ऐसी ची’जें उपहार में मिल जाए तो उसे घर में न रखें। इससे पारिवा’रिक सद’स्यों में क’लह होता है।

# इसी प्र’कार किसी को काले व’स्त्र भी उ’पार में नहीं देने चाहिए। यदि कोई आपको दे तो ये अप’शगुन माना जाता है। इसे दुख, क’ष्ट, पीड़ा’दायक और मृ’त्यु का’रक माना जाता है।

# किसी को भी जू’ते गिफ्ट नहीं करने चाहिए। जूतों को उप’हार में देना जु’दाई का प्र’तीक माना जाता है। यदि प्रे’मी ऐसा उप’हार देते हैं तो उनके रा’स्ते अलग हो सकते हैं।