Categories
धर्म

इस प्रकार हुए थे शिव भगवान प्रसन्न, मां महागौरी ने किए थे कठोर तप……….

धार्मिक खबर

आज यानी 20 अप्रैल दिन मंगलवार को नवरात्रि की अष्टमी तिथि है। नवरात्रि की अष्टमी तिथि को मां महागौरी की विधि-विधान से पूजा की जाती है। इस दिन मां गौरी को हलवे का भोग लगाया जाता है। कहते हैं कि मां महागौरी की विधि-विधान से पूजा करने से सभी बिगड़े काम बन जाते हैं। अष्टमी तिथि को कन्या पूजन का भी विशेष महत्व होता है। आज नवरात्रि का आठवें दिन हम आपको बता रहे हैं मां महागौरी के जन्म से जुड़ी पौराणिक कथा-

एक पौराणिक कथा के अनुसार, पर्वत राज हिमालय के घर माता पार्वती का जन्म हुआ था। माता पार्वती को महज 8 वर्ष की अवस्था में ही अपने पूर्वजन्म की घटनाओं का आभाष हो गया था। तभी से उन्होंने भगवान शिव को पति के रूप में पाने के लिए तप करना शुरू कर दिया था। तपस्या के दौरान माता केवल कंदमूल फल और पत्तों का सेवन करती थीं। बाद में माता ने वायु पीकर तपस्या करना शुरू कर दिया। तप से देवी पार्वती को महान गौरव प्राप्त हुआ था, यही कारण है कि इनका नाम महागौरी पड़ा।

माता की तपस्या ने प्रसन्न होकर भगवान शिव ने उन्हें गंगा स्नान करने के लिए कहा। जिस समय मां पार्वती गंगा स्नान करने गईं तब देवी का एक स्वरूप श्याम वर्ण के साथ प्रकट हुईं, जो कौशिकी कहलाईं। साथ ही एक स्वरूप उज्जवल चंद्र के समान प्रकट हुईं, महागौरी कहलाईं। मान्यता है कि मां अपने हर भक्त का कल्याण करने के साथ मन की सभी मुरादें पूरी करती हैं।

(इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)