Categories
धार्मिक

कैलाश पर्वत का ये सच पूरी दुनिया को झकझोर कर रख देगा..

धार्मिक

जैसा की हम सभी जानते हैं कैलाश पर्वत तिब्बत में स्थित है। यहां से कई महत्वपूर्ण नदियां निकलतीं हैं – ब्रह्मपुत्र, सिन्धु, सतलुज इत्यादि। इसलिए इसे पवित्र माना गया है कहा जाता है कि ऐसा कोई भी व्‍यक्ति नहीं है जो कैलाश पर्वत के बारे में जानता होगा। शास्‍त्रों के अनुसार मानसरोवर के पास स्थित कैलाश पर्वत पर शिव-शंभु का धाम है यहां भगवान शिव का परिवार निवास करते हैं। कहते हैं कि इस दुनिया का सबसे बड़ा रहस्यमयी पर्वत कैलाश पर्वत है इसलिए यहां अप्राकृतिक शक्तियों का भण्डार है।

बता दें कि कैलाश की परिक्रमा तारचेन से आरंभ होकर वहीं समाप्त होती है। तकलाकोट से 40 किमी (25 मील) पर मंधाता पर्वत स्थित गुर्लला का दर्रा 4,938 मीटर (16,200 फुट) की ऊँचाई पर है। इसके मध्य में पहले बाइर्ं ओर मानसरोवर और दाइर्ं ओर राक्षस ताल है। उत्तर की ओर दूर तक कैलाश पर्वत के हिमाच्छादित धवल शिखर का रमणीय दृश्य दिखाई पड़ता है। कैलाश पर्वत पर सालभर बर्फ की सफेद चादर लिपटी रहती है।

कैलाश पर्वत को शं‍कर जी का निवास स्‍थान होने के कारण इस स्थान को 12 ज्येतिर्लिंगों में सर्वश्रेष्ठ माना गया है। जब से सृष्टि का निर्माण हुआ है तभी से कैलाश-मानसरोवर का निर्माण हुआ है। इस पर्वत में कुछ इस तरह की ध्‍वनि निकलती है, जो “ॐ” की प्रतिध्वनि है। वैसे आज हम आपको कैलाश पर्वत के बारे में कुछ खास बताने जा रहे हैं। दरअसल बताया जाता है कि कैलाश पर्वत अंदर से खोखला है, आखिर ये कितना सच है आइए जानते हैं।