Categories
धर्म

घर आए मेहमानों से कभी ना पूछें ये सवाल बिगड़ जाएंगे सब बिगड़े हुए काम होगी बदनामी…

धार्मिक ख़बर

अतिथि देवो भव:’ भारत में मेहमानों को लेकर ये लाइन बार बार कही जाती है। इसका मतलब है कि मेहमान देवता समान होता है। जब वह आपके घर पधारे तो उसके साथ ठीक वैसा ही व्यवहार करना चाहिए जैसा आप एक देवता के घर आने पर करेंगे। इस मेहमान को कोई तकलीफ नहीं होना चाहिए। उसे आपकी किसी बात का बुरा भी नहीं लगना चाहिए। ये हमारी परंपरा तो है ही लेकिन साथ ही की निशानी भी होती है।

कोरोना काल में मेहमानों के घर आने में कमी आ गई है। लेकिन फिर भी यदि कोई आपके घर आ जाए तो उससे कुछ खास चीजें कभी नहीं पूछना चाहिए। आमतौर पर जब कोई कम जान पहचान वाला या अंजान मेहमान घर आता है तो हम उसके सामने सवालों की झड़ी लगा देते हैं। पर्सनालिटी डेवलपमेंट (Personality Development) एक्सपर्ट के अनुसार घर आए मेहमानों से कुछ खास सवाल पूछने से हमेशा बचना चाहिए।

शिक्षा

कुछ लोगों की बुरी आदत होती है कि मेहमान के घर आते ही उसका पूरा बायोडाटा लिखने लगते हैं। हमे घर आए मेहमानों से उनकी शिक्षा को लेकर कोई सवाल नहीं पूछना चाहिए। मेहमान यदि कम पढ़ा लिखा है, किसी अच्छे संस्थान से नहीं पढ़ा है या अच्छे अंकों से पास नहीं हुआ या नौकरी नहीं लग रही तो ऐसी बातें उससे पूछकर उसे नीचा नहीं दिखाना चाहिए। ऐसे सवाल उसे परेशान कर सकते हैं। ये चीजें वह अपनी मर्जी से बताए तो बात अलग है।

आमदनी

‘बेटा महीने का कितना कमा लेते हो?’ बड़े बूढ़ों को लोगों की सैलरी पूछने की बहुत ही गंदी आदत होती है। उनकी इंकम जानकार आपका न तो कुछ अच्छा होगा और न ही कुछ बुरा होगा। बल्कि आप सामने वाले को ही इंकम पूछा शर्मिंदा करेंगे। इसलिए बेहतर यही होगा कि आप दूसरों से उनकी इंकम पूछ उन्हें नीचा साबित करने की कोशिश न करें। वहीं उनकी इंकम ज्यादा हो तो जले भी नहीं।

जाति-धर्म

अपने घर आए दोस्त, रिश्तेदार, पड़ोसी, कलीग इत्यादि लोगों से उनके धर्म और जाति के बारे में पूछना अच्छी आदत नहीं होती है। ऐसे सवाल पूछने से रिश्ते बिगड़ते हैं। इस सवाल से किसी धर्म या जाति विशेष के व्यक्ति को बुरा भी लग सकता है। इसलिए ऐसे सवाल भूलकर भी न पूछे।